जम्मू-कश्मीर में शनिवार की देर शाम हुए ब्लास्ट में बेगूसराय के लेफ्टिनेंट शहीद हो गए। घटना की सूचना मिलते ही बेगूसराय में मातमी सन्नाटा पसर गया है। ऋषि कुमार बेगूसराय के प्रोफेसर कॉलोनी निवासी राजीव रंजन के पुत्र थे और एक साल पहले सेना में ज्वाइन किये थे। 30 अक्टूबर को सुंदरवन सेक्टर के रजौरी नौशेरा में आईडी ब्लास्ट के दौरान वे शहीद हो गए।

शहीद ऋषि कुमार मूलतः लखीसराय के पिपरिया के रहने वाले थे लेकिन कई दशक पूर्व से ही जीडी कॉलेज के पास पिपरा रोड में घर बना कर रह रहे थे। दादा रिफाइनरी में कार्यरत थे जिसके कारण वे सपरिवार यहीं बस गए थे। इस घटना की जानकारी मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। शहीद के पिता राजीव रंजन ने बताया कि फोन पर बेटे के शहीद होने की सूचना तकरीबन 7:30 बजे मिली। पिता ने बताया कि पिछले 4 दिन पहले ही मां से बात कर कहा था कि बहन की शादी में छुट्टी लेकर आ रहा हैं। इसी बीच आज सूचना मिली की ऋषि शहीद हो गए।

मौके पर जदयू नेता सुदर्शन सिंह, युवा जदयू जिलाध्यक्ष सौरभ कुमार, स्थानीय वार्ड पार्षद प्रतिनिधि उमेश ठाकुर समेत सैकड़ों लोगों की भीड़ जुटी हुई है। बताया जा रहा है कि ऋषि कुमार करीब एक साल पहले सेना में ज्वाइन किए थे। करीब एक माह पहले जम्मू कश्मीर के नौसेरा सेक्टर में पोस्टिंग हुआ था। शनिवार की शाम अपने टीम के साथ पाकिस्तान के बॉर्डर इलाके में गश्ती कर रहे थे। इसी दौरान शाम करीब छह बजे विस्फोट में ऋषि समेत तीन अधिकारी शहीद हो गये जबकि चार गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। कंपनी कमांडर ने शनिवार की देर शाम करीब 7:30 बजे पिता को फोन पर घटना की सूचना दी। सूचना के अनुसार सेना की टीम घटना के कारणों की जांच कर रही है।

अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि आईडी विस्फोट था या माइंस विस्फोट। घटना की सूचना मिलने के बाद सेना में ही कार्यरत ऋषि के रिश्तेदार मौके पर पहुंच चुके हैं। इधर पूर्व इकलौते पुत्र के निधन से माता-पिता समेत अन्य परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। ऋषि अपने दो बहनों के इकलौते भाई और पिता के दो भाइयों में इकलौते चिराग थे। घटना के बाद बेगूसराय से लेकर लखीसराय तक शोक की लहर फैल गयी है। परिजन का कहना है कि ऋषि की छोटी बहन की शादी 29 नवंबर को होने वाली थी। शादी की तैयारी में लोग जुटे हुए थे। बहन की शादी में शामिल होने के लिए ऋषि 22 नवंबर को आने वाले थे लेकिन इसी बीच उनकी मौत सूचना से पूरे परिवार में दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। पार्थिव शरीर रविवार दोपहर तक बेगूसराय पहुंचने की संभावना जतायी जा रही है।